Digital Gold निवेश के लिए बहुत अच्छा तरीका है, जाने क्या क्या हैं इसके फायदे

Digital Gold is very good option when it comes for investment: Digital Gold किसी अन्य डिजिटल निवेश की तरह ही काफी चर्चा में हैं। ये बिलकुल असली सोने जैसा है जिसे आप अपनी मर्जी खरीद और बेच सकते हैं। अब आपको लग रहा होगा, क्या सोना डिजिटल तरीके से भी खरीदा जा सकता है? तो हां! जी अब आप जो सोना ऑनलाइन खरीदते हैं उसे Digital Gold का नाम दिया गया है। तो इस सोने को खरीदने के बाद इसे ग्राहक के ई-वॉलेट में स्टोर करके रख दिया जाता है। साथ ही इसे आप अपनी मर्जी से खरीद और बेच सकते हैं। अपनी इस रिपोर्ट की आपको बताते हैं कि digital gold में निवेश करते समय आपको किन बातों का ध्यान रखना होगा।

इस Digital Gold को आप असली सोने में भी बदलवा सकते हैं। पर ऐसा करने के लिए आपको कुछ एक्स्ट्रा कीमत चुकानी होगी। इस निवेश को आप निवेश सोने की बार या सिक्के में बदल बदल पाएंगे। इसकी खरीदारी या बिक्री के लिए आपको ई-वॉलेट कंपनियां जैसे गूगल पे, फोन पे,पेटीएम आदि कंपनियों का इस्तेमाल करना होगा। अपने ई-वॉलेट कंपनियों के मदद से आप एमएमटीसी लिमिटेड, ऑग्मेंट गोल्ड लिमिटेड और स्विस फर्म एमकेएस पीएएमपी जैसी Digital Gold विक्रेता कंपनियों से सोना खरीद सकते हैं।

मालूम हो कि किसी भी तरह के सिक्के को बनवाने के लिए आपको उसका डिजाइन चार्ज पड़ेगा। पर लेकिन, Digital Gold लेने पर आपको 3% ज्यादा का GST भुगतान भी करना होगा। इसके अलावा अगर आप किसी तरह के UPI(फोन पे) आदि से डिजिटल गोल्ड खरीदें तो आपको उसे अपने वाले में रखने के लिए कुछ एक्स्ट्रा चार्ज देना चुकाना होगा। इतना ही नहीं ई-वॉलेट कंपनियां एमएमटीसी लिमिटेड जैसे डिजिटल गोल्ड बेचने वाली कंपनियों के लिए एक प्लेटफार्म तैयार करती है। इन गोल्ड को खरीद कर आपको वॉलेट में स्टोर करके आप रख सकते हैं।

डिजिटल गोल्ड क्या है

gold bars

26 अगस्त तक कर सकते हैं निवेश

डिजिटल गोल्ड में निवेश करने के लिए डिजिटल गोल्ड क्या है इच्छुक निवेशकों के लिए सॉवरेन गोल्ड बांड की स्कीम है। ये स्कीम दूसरी बार फिर लॉन्च की गई है। मौजूदा वित्त वर्ष के दौरान इसके पहले जून के महीने में इस स्कीम की पहली सीरीज लॉन्च हुई थी। 22 अगस्त से शुरू हुई दूसरी सीरीज में 26 अगस्त यानि शुक्रवार तक निवेश किया जा सकेगा। भारतीय रिजर्व बैंक के मुताबिक सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड की दूसरी सीरीज के तहत बॉन्ड का इश्यू प्राइस (सोने की कीमत) 5,197 रुपये प्रति यूनिट (ग्राम) तय किया गया है। पहले की तरह ही इस बार भी ऑनलाइन निवेश करने वाले और ऑनलाइन भुगतान करने वाले निवेशकों को सोने की कीमत में प्रति ग्राम 50 रुपये की छूट दी जाएगी। इस तरह ऑनलाइन निवेशकों को सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड स्कीम की दूसरी सीरीज के तहत एक यूनिट सोने के लिए 5,147 रुपये का ही भुगतान करना होगा।

कैसे तय होती है गोल्ड की कीमत

इसके पहले जून के महीने में आई सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड स्कीम की पहली सीरीज के तहत सोने की कीमत 5,091 रुपये प्रति ग्राम तय की गई थी। इस बार सोने के बाजार भाव में अंतर होने की वजह से इसकी कीमत में प्रति ग्राम 106 रुपये की बढ़ोतरी हो गई है। आपको बता दें कि सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड स्कीम के तहत सोने की कीमत तय करने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक लॉन्चिंग डेट (सब्सक्रिप्शन शुरू होने की तारीख) से ठीक पहले के 3 कारोबारी दिनों के दौरान के सोने के बंद भाव को आधार बनाता है। इन तीन दिनों के बंद भाव के आधार पर ही सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड स्कीम के तहत इश्यू प्राइस (सोने की प्रति ग्राम कीमत) तय की जाती है। इस सीरीज का इश्यू प्राइस तय करने के लिए 17,18 और 19 अगस्त के सोने के बंद भाव को आधार बनाया गया है।

स्कीम की अवधि 8 साल

स गोल्ड बॉन्ड स्कीम में भारतीय नागरिक, हिन्दू अनडिवाइडेड फेमिली (हिन्दू अविभाजित डिजिटल गोल्ड क्या है परिवार), ट्रस्ट्स, यूनिवर्सिटीज और चैरिटेबल इंस्टीट्यूशन्स पैसा लगा सकते हैं। इस स्कीम की अवधि 8 साल है। इस दौरान निवेशक को प्रतिवर्ष 2.5 डिजिटल गोल्ड क्या है प्रतिशत के फिक्स्ड रेट के हिसाब से ब्याज मिलेगा। ब्याज का भुगतान हर 6 महीने के अंतराल पर किया जाएगा। सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड स्कीम 8 साल के लिए जरूर है, लेकिन जरूरत पड़ने पर 5 साल की अवधि पूरी होने के बाद भी इस स्कीम से पैसा निकाला जा सकता है।

Sovereign Gold Bond Scheme : कितने ग्राम गोल्ड में कर सकते हैं निवेश

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड स्कीम में कोई भी निवेशक न्यूनतम 1 ग्राम सोने के लिए निवेश कर सकता है। व्यक्तिगत निवेशकों के लिए इस स्कीम के तहत निवेश की सीमा एक वित्त वर्ष में अधिकतम 4 किलोग्राम तय की गई है। इसी तरह हिन्दू अनडिवाइडेड फेमिली (एचयूएफ) के लिए भी निवेश की अधिकतम सीमा 4 किलोग्राम तय की गई है। लेकिन ट्रस्ट, यूनिवर्सिटी और चैरिटेबल इंस्टीट्यूशन्स जैसी संस्थाएं 1 वित्त वर्ष में अधिकतम 20 किलो ग्राम सोने तक के लिए निवेश कर सकती हैं।

डिजिटल गोल्ड में इनवेस्टमेंट से ज्यादा रिटर्न मिलेगा ? एक्सपर्ट से जानें जवाब

आपके पास पर्याप्त पैसा है और निवेश करना चाहते हैं, लेकिन क्या आप इस उलझन में हैं कि कहां निवेश करें? तो हम आपके लिए फाइनैंशियल एक्सपर्ट के सुझाव लाए हैं, जो आपके पैसे को समझदारी से निवेश करने में मदद करेगा.

हैदराबाद : अच्छी आमदनी वाले कई लोग अपने पैसे को दोगुना करने की ख्वाहिश रखते हैं, लेकिन उन्हें पता नहीं होता है कि बेहतर रिटर्न पाने के लिए कहां निवेश करें. इसके अलावा भारतीयों को सोने का शौक है और वे हमेशा सोने में निवेश की तलाश में रहते हैं. मौका मिलते ही सोना खरीद लेते हैं. अधिकतर लोग अपने इनवेस्टमेंट पर अधिक रिटर्न प्राप्त करना चाहते डिजिटल गोल्ड क्या है हैं, लेकिन उनमें से कुछ ही अपने लक्ष्य को हासिल कर पाते हैं. बाकी बचे लोग यह जानना चाहते हैं कि ज्यादा रिटर्न के लिए किस स्कीम में निवेश करें? जिसमें हम इन्वेस्ट कर रहे हैं, उसमें कोई नुकसान तो नहीं होगा? ऐसे ही सवालों को हम एक्सपर्ट के नजरिये से बताते हैं, ताकि आपकी शंकाओं का समाधान हो सके.

अरुण का सवाल है कि मैं हर महीने दस हजार रुपये इनवेस्ट करने की प्लानिंग कर रहा हूं. मैं किस स्कीम में निवेश करूं, जिसमें मुझे कम से कम 14 प्रतिशत की दर से ऐन्युअल रिटर्न मिले.

फाइनैंशियल एक्सपर्ट तुम्मा बलराज का कहना है कि ज्यादा रिटर्न जोखिम भरे निवेश से ही संभव है. आप तय करें कि आप कितना जोखिम उठा सकते हैं. इक्विटी पर आधारित इन्वेस्टमेंट में 14 फीसदी तक रिटर्न मिलने के चांस रहते हैं. मगर हमें यह नहीं भूलना चाहिए डिजिटल गोल्ड क्या है कि शॉर्ट टर्म इन्वेस्टमेंट में उतार-चढ़ाव होते हैं. बेहतर रिटर्न तभी संभव है, जब आप कम से कम 7 से 10 साल के लिए निवेश करें. अगर आप समय-समय पर निवेश करते रहेंगे तो लंबी अवधि में आप 12-15 फीसदी की दर से रिटर्न की उम्मीद कर सकते हैं. इसके लिए आपको सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाले डायवर्सिफाइड इक्विटी म्यूचुअल फंडों पर ध्यान देना चाहिए.

स्वप्ना ने सलाह मांगी है कि मैं अपनी मां के नाम वरिष्ठ नागरिक बचत खाते में 5 लाख रुपये जमा करना चाहती हूं. क्या यह अधिक लाभदायक है? क्या डेब्ट म्यूचुअल फंड में निवेश करना और प्रति माह एक निश्चित राशि लेना बेहतर होगा?

सीनियर सिटीजन सेविंग्स स्कीम में निवेश करने पर आपको सालाना 7.4 फीसदी ब्याज मिल सकता है. इस स्कीम के तहत हर तीन महीने में ब्याज का भुगतान किया जाता है. वर्तमान परिस्थितियों में, फिक्स डिपॉजिट और डेब्ट फंड से अधिक रिटर्न मिलने की संभावना नहीं है. इसलिए इसे सीनियर सिटिजन अकाउंट में जमा करें. यह स्कीम पांच साल तक जारी रहनी चाहिए. इसमें सेक्शन 80 सी के तहत स्लैब के हिसाब टैक्स लग सकता है.

श्रीकांत पूछते हैं कि मैं 43 साल का हूं. मैं 75 लाख रुपये की टर्म पॉलिसी लेना चाहता हूं. क्या इसे एक ही बीमा कंपनी से लिया जा सकता है? दो कंपनियों से लेने का क्या फायदा है?

जीवन बीमा पॉलिसी का मूल्य हमेशा ऐन्युअल इनकम का लगभग 10-12 गुना होना चाहिए. इंश्योरेंस लेते समय अपना पर्सनल, हेल्थ और फाइनैंशियल डिटेल स्पष्ट रूप से बताया जाना चाहिए. ऐसी कंपनी का चुनाव करना चाहिए, जिनका क्लेम सेटलमेंट की हिस्ट्री बेहतर है. यदि आपने एक कंपनी से इंश्योरेंस लिया और भविष्य में वह इंश्योरेंस क्लेम के दावे को ठुकरा देती है तो दिक्कत आएगी. इसलिए दो बीमा कंपनियों से पॉलिसी लेना बेहतर है. यदि क्लेम को अस्वीकार करता है तो हम दूसरे पर भरोसा कर सकते हैं.

वेंकट जानना चाहता है कि कई कंपनियां डिजिटल 'गोल्ड' के नाम पर सोने में निवेश का मौका दे रही है. क्या इन्हें चुनना बेहतर है? क्या डिजिटल गोल्ड क्या है कोई जोखिम है?

तुम्मा बलराज के अनुसार, अब गोल्ड में निवेश करने के कई तरीके हैं. डिजिटल गोल्ड उनमें से एक है. यह डिजिटल गोल्ड क्या है आकर्षक लगता है क्योंकि आप इसमें कम से कम 100 रुपये में निवेश कर सकते हैं. सोने की कीमत के आधार पर लाभ या हानि संभव है क्योंकि इसमें समय-समय पर उतार-चढ़ाव होता रहता है. जब आप लंबी अवधि के निवेश का विचार करते हैं तो गोल्ड ईटीएफ या गोल्ड फंड का चुनाव करना उचित है.

डिजिटल गोल्ड क्या है

gold bars

26 अगस्त तक कर सकते हैं निवेश

डिजिटल गोल्ड में निवेश करने के लिए इच्छुक निवेशकों के लिए सॉवरेन गोल्ड बांड की स्कीम है। ये स्कीम दूसरी बार फिर लॉन्च की गई है। मौजूदा वित्त वर्ष के दौरान इसके पहले जून के महीने में इस स्कीम की पहली सीरीज लॉन्च हुई थी। 22 अगस्त से शुरू हुई दूसरी सीरीज में 26 अगस्त यानि शुक्रवार तक निवेश किया जा सकेगा। भारतीय रिजर्व बैंक के मुताबिक सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड की दूसरी सीरीज के तहत बॉन्ड का इश्यू प्राइस (सोने की कीमत) 5,197 रुपये प्रति यूनिट (ग्राम) तय किया गया है। पहले की तरह ही इस बार भी ऑनलाइन निवेश करने वाले और ऑनलाइन भुगतान करने वाले निवेशकों को सोने की कीमत में प्रति ग्राम 50 रुपये की छूट दी जाएगी। इस तरह ऑनलाइन निवेशकों को सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड स्कीम की दूसरी सीरीज के तहत एक यूनिट सोने के लिए 5,147 रुपये का ही भुगतान करना होगा।

कैसे डिजिटल गोल्ड क्या है तय होती है गोल्ड की कीमत

इसके पहले जून के महीने में आई सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड स्कीम की पहली सीरीज के तहत सोने की कीमत 5,091 रुपये प्रति ग्राम तय की गई थी। इस बार सोने के बाजार भाव में अंतर होने की वजह से इसकी कीमत में प्रति ग्राम 106 रुपये की बढ़ोतरी हो गई है। आपको बता दें कि सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड स्कीम के तहत सोने की कीमत तय करने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक लॉन्चिंग डेट (सब्सक्रिप्शन शुरू होने की तारीख) से ठीक पहले के 3 कारोबारी दिनों के दौरान के सोने के बंद भाव को आधार बनाता है। इन तीन दिनों के बंद भाव के आधार पर ही सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड स्कीम के तहत इश्यू डिजिटल गोल्ड क्या है प्राइस (सोने की प्रति ग्राम कीमत) तय की जाती है। इस सीरीज का इश्यू प्राइस तय करने के लिए 17,18 और 19 अगस्त के सोने के बंद भाव को आधार बनाया गया है।

स्कीम की अवधि 8 साल

स गोल्ड बॉन्ड स्कीम में भारतीय नागरिक, हिन्दू अनडिवाइडेड फेमिली (हिन्दू अविभाजित परिवार), ट्रस्ट्स, यूनिवर्सिटीज और चैरिटेबल इंस्टीट्यूशन्स पैसा लगा सकते हैं। इस स्कीम की अवधि 8 साल है। इस दौरान निवेशक को प्रतिवर्ष 2.5 प्रतिशत के फिक्स्ड रेट के हिसाब से ब्याज मिलेगा। ब्याज का भुगतान हर 6 महीने के अंतराल पर किया जाएगा। सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड स्कीम 8 साल के लिए जरूर है, लेकिन जरूरत पड़ने पर 5 साल की अवधि पूरी होने के बाद भी इस स्कीम से पैसा निकाला जा सकता है।

Sovereign Gold Bond Scheme : कितने ग्राम गोल्ड में कर सकते हैं निवेश

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड स्कीम में कोई भी निवेशक न्यूनतम 1 ग्राम सोने के लिए निवेश कर सकता है। व्यक्तिगत निवेशकों के लिए इस स्कीम के तहत निवेश की सीमा एक वित्त वर्ष में अधिकतम 4 किलोग्राम तय की गई है। इसी तरह हिन्दू अनडिवाइडेड फेमिली (एचयूएफ) के लिए भी निवेश की अधिकतम सीमा 4 किलोग्राम तय की गई है। लेकिन ट्रस्ट, यूनिवर्सिटी और चैरिटेबल इंस्टीट्यूशन्स जैसी संस्थाएं 1 वित्त वर्ष में अधिकतम 20 किलो ग्राम सोने तक के लिए निवेश डिजिटल गोल्ड क्या है कर सकती हैं।

Digital Gold : अब घर में रखें सोने से होगी कमाई, इस कंपनी ने शुरू की यह स्कीम, जाने पूरा तरीका

________________________
लेटेस्ट रोजगार समाचार और स्कॉलरशिप न्यूज़ से अपडेटेड रहने के लिए इस ग्रुप में अभी जुड़े. (अगर आप टेलिग्राम नहीं चलाते हैं तो फेसबुक को फॉलो करें, ताकि बिहार की कोई नौकरी नोटिफिकेशन न छूटे)

Whatsapp GroupJoin Now
Join FacebookJoin & Follow
Telegram GroupJoin Now
Follow on GoogleClick On Star

कर सकते हैं. जी हां, आप Digital Gold को लीज पर देकर कमाई (Earn Money) कर सकते हैं. Online

Digital Gold Platform सेफगोल्ड (SafeGold) की तरफ से गोल्ड लीजिंग प्लेटफॉर्म ‘Gains’ पेश किया गया

है. इसकी तरफ से पेश की गई स्‍कीम में आप अपने Digital Gold को पट्टे पर देकर कमाई कर सकते हैं।

जरूरत पड़ने पर कभी भी बेच सकेंगे:

बता दें की Digital Gold Loan फ‍िक्‍स टेन्योर के लिए होगा और आपको Digital Gold पर रेंट मिलेगा, यह

यह भी पढ़े : HPCL Recruitment 2023 : आपके पास है ये डिग्री, तो HPCL में मिलेगी नौकरी, इन पदों पर बंपर वैकेंसी, 2.40 लाख तक सैलरी

Yield के रूप में म‍िलेगा. Yield का Payment आपको Gold के रूप में म‍िलेगा, ज‍िसे खाताधाकर के

SafeGold अकाउंट में जमा क‍िया जाएगा. इतना ही नहीं आप इस SafeGold को जरूरत पड़ने पर कभी भी बेच

सकते हैं. इस SafeGold को बेचने पर आपके अकाउंट में पैसा ट्रांसफर (Money Transfer) हो जाएगा.

क्या है Gold Leasing?

आपको बता दें की Company के अनुसार Gold Leasing के तहत आप Digital Platform के जर‍िये

अपना सोना जौहरी और आभूषण निर्माताओं (Gold Jewelers And Jewelery Manufacturers) को

लीज पर दे सकते हैं. ये SafeGold का उपयोग अपनी Working Capital के रूप में करेंगे. तय समय सीमा के

बाद Lease पर लेने वाला किराये का भुगतान (Rental Payment) आपके गोल्ड (SafeGold) के साथ कर

देगा. अभी यह स्कीम SafeGold से Digital Gold लेने वाले ग्राहकों (Customers) के ल‍िए ही उपलब्ध है।

बताते चलें की घर में रखे सोना यानि Gold पर भी जल्‍द इस सुव‍िधा को शुरू करने की तैयारी है।

यह भी पढ़े : Bihar Scholarship 2022 : बिहार बोर्ड मैट्रिक पास छात्रों को मिलेंगे ₹10,000, इस दिन से करें ऑनलाइन आवेदन, Official नोटिस जारी…

20 ग्राम तक लीज पर द‍िया जा सकता है Digital Gold:

इस योजना के तहत कम से कम 0.5 ग्राम और अधिकतम 20 ग्राम Digital Gold को लीज पर द‍िया जा सकता है।

लीज की समय सीमा (Lease Term) 30 से 364 दिन की होती है. गोल्ड लीजिंग ऑफर (Gold Leasing

Offer) में ह‍िस्‍सा लेने के लिए आपका स्थायी खाता संख्या यानि PAN Card होना जरूरी है।

रेटिंग: 4.41
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 841